वो 7 डायलोग जो हिंदुस्तान हर माँ बोलती है

वो 7 डायलोग जो हिंदुस्तान की हर माँ बोलती है।

वो 7 डायलोग जो हिंदुस्तान की हर माँ बोलती है।

- छुट्टी वाले दिन, “बेटा उठो देखो 11 बज गए”। जब आप उठते हैं तो पता चलता है कि बस 8.30 बजा है।

- घनघोर जाड़े में, “जब तक नहाओगे नहीं तब तक खाना नहीं मिलेगा”।

- "फ्रिज़ में पानी पीने के बाद बोतल भर के रखना" 

- शाम को शर्मा अंकल आंटी के यहाँ जाना है। वहाँ अगर कोई शैतानी की तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा और बस एक बिस्कुट लेना

- “बेटा अब शादी कर ले”/ “बेटी अब शादी कर ले”

- कोई लड़की पसन्द हो तो बताओ 

- जब आप घर दूर किसी बड़े शहर के शीशे वाले ऑफिस में बैठकर अगले दिन का रिव्यू प्रेजेंटेशन निपटा रहे हैं रात के 11 बज चुके हों तब फोन आएगा। आपको जल्दी है। माँ फुरसत में है और आपके फोन रखवाने से पहले वो पूछेगी, “खाना खाया” और आप झूठ बोल देते हैं। माँ को पता रहता है कि आपने झूठ बोला है। माँ के फोन के बाद आपको याद आता है कि आप इतने भूखे थे।

माँ के बारे में कुछ लिखना उतना ही मुश्किल है जितना जब पहली बार कोई बच्चा ABCD लिखना सीख रहा होता। कितने भी अच्छे से पेंसिल पकड़ों महीनों तक अक्षर सही से बनते ही नहीं।
मैं उम्मीद करता हूँ #ketupmoms दुनिया की हर माँ तक तो पहुँचे ही, हर बच्चे तक भी पहुँचे जो आने वाले कल में माँ बाप बनेंगे।

दिव्य प्रकाश दुबे

Comments (3)

स्वयं Posted on Nov 06, 2017

बड़ा अच्छा लिखता है यह यू पी का लड़का

  Reply

Nihal Shetty Posted on Sep 26, 2017

True

  Reply

Meena Posted on Sep 08, 2017

Bahut achcha aur sachcha likha hai

  Reply

Divya Prakash Dubey

Divya Prakash Dubey aka DP is author of three bestselling books- Musafir Cafe, Masala Chai & Terms and conditions apply . Besides writing he is also popularising his new brand of storytelling, “Stor

Featured Video

Kama Ayurveda Travel Kit

15 Nov 2017

Recent Posts